Friday, July 19, 2024
कविता

कलम नहीं जयघोष करे क्यों पावन पुज्य फ़क़ीरों की

Top Banner

जय जय ऐसे वीरों की
आज़ादी की खातिर गहनें पहनें जो जंजीरों की

कदम कदम पर कहर किए जो
हंस हंस कर हर जहर पिए जो
काल कोठरी में ही अपनी
सारी आयु बीता दिए जो
नहीं जरा भी अपनी, चिन्ता सिर्फ़ पराए पीरों की

क्रांति फूंक कर के कण कण में
उतर गए जो रण भीषण में
पलक खुले तो झलक पड़े ध्वज
दोनों नैनों के दर्पण में
अद्भुत, अटल,अथाह, शौर्य भी कायल जिन रणधीरों की

अतुलित साहस, अडिग इरादे
अगणित शीशों की तादादें
दफ़न कफ़न बिन हुईं तो तत्पर
हुईं आजादी की बुनियादें
इनके अस्थि-राख के आगे क्या तुलना जागीरों की

प्रबल प्रतापी,कर्म यशस्वी
वेगवान,भुजबली, तेजस्वी
महासमर को दिए जवानी
मातृभूमि के परम तपस्वी
जिनके सर पर चलने से
हिम्मत छूटी शमशीरों की

सरहद पर सर बोने वाले
नींद मौत की सोने वाले
भारत माता के दामन का
दाग़ लहू से धोने वाले
कलम नहीं जयघोष करे क्यों
पावन पुज्य फ़क़ीरों की

रवि यादव