Sunday, July 21, 2024
चर्चित समाचार

चौक महाराणा प्रताप के नाम मूर्ति बिसाहूदास की

Top Banner

मनेंद्रगढ़

एमसीबी नवीन जिले एमसीबी के मनेंद्रगढ़ नगरपालिका अंतर्गत आने वाले महाराणा प्रताप चौक का नाम बिसाहूदास महंत किये जाने को लेकर नगरपालिका में प्रस्ताव हुआ है और जिसे लेकर अब विरोध के स्वर भी उठने लगे हैं। बताया जा रहा है कि जिस चौक को लोग वर्षों से महाराणा प्रताप चौक के नाम से जाना करते थे उसे बिसाहूदास महंत चौक नया नामकरण किया जा सकता है और अब इसकी सूचना मिलते ही विरोध भी दर्ज होने लगा है। महाराणा प्रताप चौक का नाम किन वजहों से बदला जा रहा है उनमें से जो मुख्य वजह सामने आ रही है वह यह कि स्व बिसाहूदास महंत विधानसभा अध्यक्ष के पिता हैं और क्षेत्रीय सांसद के ससुर और केवल उन्ही को प्रसन्न करने की कवायद में चौक का नाम परिवर्तित किया जा रहा है और ऐसा करके उनके सबसे खास समर्थंको में अपना नाम जोड़ने की यह कवायद भी मानी जा रही है। वैसे भले ही प्रसन्न कर किसी को अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा पूरी करने का यह एक राजनीतिक प्रयास हो। लेकिन सवाल यह भी उठता है कि महाराणा प्रताप को महान माना जाए या बिसाहूदास महंत को, दोनों का सार्वजनिक जीवन था और दोनों ही समाज के लिए कुछ न कुछ किये थे लेकिन महाराणा प्रताप मुगल आतताइयों से लड़कर देश की रक्षा में अपना जीवन बलिदान किये थे वहीं बिसाहूदास महंत राजनीतिक रूप से समाज की सेवा में रत थे। पूरे मामले में नेता प्रतिपक्ष मनेंद्रगढ़ नगरपालिका ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी के नेताओं द्वारा अपने बड़े नेताओं को खुश करने के लिए महापुरुषों का अपमान किया जा रहा है और मुगल शासकों से लड़कर देश पर मुगल शासन का विरोध करने वाले वीर महापुरषों के नाम पर बने चौक का नाम अपने नेता के पिता के नाम पर किया जा रहा है जिसका हम विरोध करेंगे और स्वयं महाराणा प्रताप चौक जाकर विरोध दर्ज करेंगे।वी यह कैसे सही कहा जा सकता है कि चौक का नाम कुछ और होगा और वहां मूर्ति किसी और की होगी, अभी तक हमने जो भी देखा है कि जिसके नाम की चौक है उसी के नाम की मूर्ति होती है इस बार एक अलग ही मामला सामने आ रहा है, जिसमें चौक तो रहेगा महाराणा प्रताप के नाम पर मूर्ति होगी बिसाहू दास महंत की, इसे लेकर मनन करने चर्चा का बाजार गर्म है और बड़ी तेजी से इस समय हर चौक चौराहों पान ठेला पर यही चर्चा हो रही है कि आखिर यह कैसे होगा? ऐसा होना भी नहीं चाहिए, आखिर विधायक ने नया ही क्या प्रस्ताव दे दिया कि चौक का नाम कुछ और मूर्ति कुछ और होगी, विधायक की घोषणा ही चौक को लेकर असमंजस की स्थिति पैदा करने वाली है, अब पैसा विधायक मद का है चाहे वह मूर्ति किसी की भी लगा दे क्या ऐसा संभव है? नगरपालिका अध्यक्ष ने अपने बयान में बताया है कि विधायक मनेंद्रगढ़ का प्रस्ताव था और उन्होंने ही अपनी निधि से 5 लाख देने की घोषणा की है और उसी का परिपालन किया जा रहा है जिसमे चौक का नाम वही होगा जो है लेकिन मूर्ति अलग स्थापित होगी यह प्रस्ताव लाया गया है।
। वैसे मामले में जो लोग इसका विरोध कर रहें हैं उनका कहना है कि चौक में महाराणा प्रताप की मूर्ति नहीं है केवल चौक का नाम महाराणा प्रताप चौक है और नगरपालिका इसी प्रयास में है कि मूर्ति स्थापित कर नाम भी परिवर्तित कर दिया जाएगा और ऐसे में विरोध भी दर्ज नहीं हो सकेगा। अब हकीकत जो हो मामले में अपने बड़े नेता को खुश करने पूरा प्रयास जारी है और देखना है कि राष्ट्रीय स्तर पर मान्य महापुरुष महाराणा प्रताप नगरपालिका के लिए महापुरुष हैं या उनके ही नेता के पिता।