Sunday, July 14, 2024
देश

टेलीग्राम को दैनिक जागरण अखबार के पीडीएफ उपलब्ध करवाने वाले चैनलोंं को ब्लॉक करने का निर्देश दिया दिल्ली हाईकोर्ट

Top Banner

दिल्ली हाईकोर्ट ने शुक्रवार को टेलीग्राम मोबाइल इंटरनेट एप्लिकेशन के खिलाफ एक आंशिक आदेश पारित किया, जिसमें 48 घंटे के भीतर ‘दैनिक जागरण’ समाचार पत्र के पीडीएफ संस्करण साझा करते हुए कॉपीराइट और ट्रेडमार्क उल्लंघन करने वाले टेलीग्राम चैनलों को ब्लॉक करने का निर्देश दिया। न्यायमूर्ति मुक्ता गुप्ता की एकल न्यायाधीश पीठ ने टेलीग्राम को निर्देश दिया कि वह उल्लंघन करने वाले टेलीग्राम मोबाइल इंटरनेट एप्लिकेशन चैनल के उपयोगकर्ता के विवरणों का खुलासा करे। उल्लेखनीय है कि वर्तमान में टेलीग्राम ऐसे चैनलों के यूज़र्स / एडमिन के विवरण का खुलासा पाठकों के सामने नहीं करता है। इसी के मद्देनज़र वआदेश में कहा गया है कि “प्रतिवादी नंबर 1 को उन चैनलों के उपयोगकर्ताओं / एडमिन की मूल ग्राहक जानकारी / पहचान का खुलासा करने के लिए भी निर्देशित किया जाता है, जिन्हें प्रतिवादी नंबर 2 के रूप में प्रत्यारोपित किया गया है, जो पैरा (बी) में वर्णित ईमेल / पते का उपयोग कर रहे हैं।” हाईकोर्ट ने टेलीग्राम मोबाइल ऐप के खिलाफ निषेधाज्ञा की मांग करने वाली याचिका पर यह आदेश पारित किया, जिसने पीडीएफ प्रारूप में ई-पेपर “दैनिक जागरण” (जागरण प्रकाश लिमिटेड का स्वामित्व) के सभी संस्करणों को डाउनलोड करने की अनुमति दी हुई थी। इस बारे में, याचिकाकर्ता के वकील जीवनेश मेहता ने कहा था कि एक मध्यस्थ की क्षमता के तहत टेलीग्राम ने सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम 2000 और सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यवर्ती दिशानिर्देश) नियम 2011 की धारा 79 के तहत “उचित परिश्रम” नहीं देखा था और इस प्रकार, एक मध्यस्थ के रूप में यह आईटी अधिनियम के प्रावधानों से छूट या इन परिस्थितियों में देयता से बचने का दावा नहीं कर सकता है। याचिकाकर्ता ने दलील दी थी कि प्रतिवादी (यों) वादी के ई-समाचार पत्रों को पुन: प्रस्तुत करने, अपनाने, वितरित करने, प्रसारित करने और प्रसारित करने में लिप्त थे और जिससे न केवल वादी को गंभीर वित्तीय नुकसान हो रहा था, बल्कि वादी के ई-अखबार में ट्रेडमार्क अधिकारों के साथ-साथ कॉपीराइट का भी उल्लंघन हो रहा था। आदेश में कहा गया, “इन चैनलों पर वादी के ई-पेपर के रूप से पीडीएफ प्रारूप में अपलोड किए जा रहे हैं और इस प्रकार इन चैनलों की मदद से प्रतिवादी नंबर 1 न केवल ई-पेपर के वर्तमान संस्करणों की उपलब्धता की अनुमति दे रहा है, बल्कि उपयोगकर्ताओं की सदस्यता भी ले रहा है। प्रतिवादी नंबर 1 के चैनल अतीत में प्रकाशित ई-पेपर के सभी पिछले संस्करणों को डाउनलोड कर सकते हैं, जो अन्यथा किसी उपयोगकर्ता को तभी उपलब्ध होता है, जब वह वादी की वेबसाइट पर जाते समय ई-पेपर की सदस्यता लेता है।” आदेश की प्रति डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें