Monday, July 22, 2024
उत्तर प्रदेशप्रतापगढ़फतेहपुर

फतेहपुर में जेसीआई की जली मशाल गोष्ठी आयोजन कर कलम कारो को नैतिक पाठ पढ़ाया

Top Banner

उपेक्षित पत्रकारों को एकत्रित कर संगठन उसकी लड़ाई लड़ेगा

जर्नलिस्ट काउंसिल ऑफ इंडिया की बैनर तले कलम कार का एक गोष्ठी आयोजन गेस्ट हाउस व्योम रिसॉर्ट में संपन्न हुई जिसमें बैनर अखबार सहित करीब दो दर्जन से अधिक पत्रकार सम्मिलित हुए जिसमे सभी लोगों ने राष्ट्र के चौथे स्तंभ के साथ सौतेला बर्ताव को लेकर अपना गुस्सा जाहिर करते हुए कहा कि अब कलमकार जनरलिस्ट काउंसिल ऑफ इंडिया के बैनर तले उपेक्षित पत्रकारों को एकत्रित करेगा और अपनी जायज मांगों को लेकर जन जागरण अभियान चलाएगा

इतिहास गवाह है कि राष्ट्र के चौथे स्तंभ के कहलाने वाले कलमकार सदैव छले गए हैं जब जब पत्रकारों ने अपनी कलम की नुकीली धार से भ्रष्टाचार का उन्मूलन करने का प्रयास किया तब तब पत्रकार के कलम को रोकने को लेकर के साम दाम दंड भेद की नीति अपनाया गया
गोष्ठी में पत्रकारों के ऊपर बढ़ते उत्पीड़न और फर्जी मुकदमों को लेकर अपनी चिंता व्यक्त की इस अवसर पर बोलते हुए संदीप निषाद ने कहा कि पत्रकारों के ऊपर बढ़ते हमले चिंता का विषय हैं। मोहित दुबे ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि पत्रकारों के ऊपर फर्जी मुकदमे जायज नहीं हैं। पत्रकार अरुण कुमार ने कहा कि सरकार को चाहिए कि पत्रकारों पर हो रहे उत्पीड़न पर सख्त कदम उठाते हुए दोषियों पर कार्रवाई करे। वरिष्ठ पत्रकार अब्दुल अहद ने कहा कि वैसे तो देश में तमाम सारे संगठन है जो कि प्रदेश स्तर पर ही कार्य कर रहे हैं कुछ संगठन ऐसे हैं जो राष्ट्रीय स्तर पर कार्य कर रहे हैं परंतु उनकी कार्यशैली इतनी अच्छी नहीं है जितनी की जर्नलिस्ट काउंसिल ऑफ इंडिया की है जर्नलिस्ट काउंसिल आफ इंडिया पत्रकारों के हितों का ध्यान रखते हुए पत्रकारों के लिए बराबर लड़ाई लड़ने का कार्य कर रही है। विशेष बात यह है कि सभी कुछ निशुल्क है इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार अनिल अवस्थी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि यदि इसी प्रकार से पत्रकारों का शोषण होता रहा तो जर्नलिस्ट काउंसिल आफ इंडिया पत्रकारों के हितों को लेकर आंदोलन करेगी सभी के विचार व्यक्त करने के बाद जर्नलिस्ट काउंसिल ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय सलाहकार समिति के सदस्य डॉ0 आर सी श्रीवास्तव ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि हमें कभी भी एक पक्षीय पत्रकारिता नहीं करनी चाहिए बल्कि दोनों पक्षों का मत जानने के बाद, समस्याओं को जानने के बाद सक्षम अधिकारी से वर्जन लेकर इस प्रकार से समाचार का संपादन करना चाहिये ताकि जो वास्तविकता है वह सामने आ सके क्योंकि पत्रकार का रूप ही आईना होता है हमें किसी भी समाचार में स्वयं पार्टी बनने से बचना चाहिए हमें अपने कार्य पत्रकारिता तक ही सीमित रखने चाहिए किसी एक पक्ष का पैरवी कर के बेमतलब की बुराई भलाई नहीं लेनी चाहिए दूसरी तरफ उन्होंने कहा कि पत्रकारों पर हो रहे हमले फर्जी मुकदमे और पत्रकारों का शोषण पूरी तरीके से गैरकानूनी है इसके लिए सरकार को पत्रकार सुरक्षा कानून लाना चाहिए ताकि पत्रकार बिना किसी दबाव के अपना कार्य कर सकें पत्रकारों को सरकार के द्वारा दी जा रही सभी योजनाओं का फायदा मिलना चाहिए ताकि पत्रकार बिना किसी दबाव के अपना कार्य कर सकें उन्होंने कहा कि हम पत्रकारों की लड़ाई लड़ने के लिए वचनबद्ध है और हमारी यह लड़ाई तब तक खत्म नहीं होगी जब तक पत्रकारों को उनका हक नहीं मिल जाता इस अवसर पर अन्य पत्रकार भाइयों ने भी अपने विचार रखे।