Sunday, July 21, 2024
अपराध

बी बी सी इंडिया न्यूज़24 का असर,गल्फ क्वाइन गोल्ड की वेबसाइट बंद।

Top Banner

विगत चार वर्षों से क्रिप्टो करेंसी के नाम पर लूट पाट कर रही कंपनी के खिलाफ जब हमने उसके हर फ़्रॉड की पोल खोली तो कंपनी की चूल हिल गई।ज्ञातब्य होकि माई गल्फ क्वाइन गोल्ड बदला रूप गल्फ क्वाइन गोल्ड कंपनी का मास्टर माइन्डशाशा गुप्ता अपनी एक लूटपाट कंपनी एम एल एम की चलाता है जिसके कुछ पेटेंटचेहरे हैं जो हर कदम उसके साथ उसकी हर हरकत में शामिल रहते हैं ये सब मिलकरकरीब पिछले चार वर्षों से कोई न कोई प्लान के तहत लोगों को लूट रहे थे,हर प्लान नए छेत्र में लांच कर नए चेहरों को ख्वाब दिखाकर औऱ पीछे बीते वर्षों का हवाला देकर वेबसाइट दिखा कर इनका गोरख धंधा चालू था।इनकी वेबसाइट पर इनका कभीकोई लीगल डॉक्युमेंट कभी भी नही दिखा और ना ही कंपनी कभी अपने बैंक अकाउंट मेंपैसे लेने के पक्छ में रहती है,पैसे वो लीडरों के माध्यम से उनके पर्सनल अकाउंट में लेती फिर बड़े लीडर अपने अकाउंट में,इसी तरह कंपनी अपने उन अजीज एजेंटों को अपना पोस्ट पेड चेक, एग्रीमेंट का लीगल डाकुमेंट ,जमीन के बैनामा के कागजात देती जिसे दिखाकर वो छोटे निवेशक को आकर्षित करते ,होता ये था कि छोटे निवेशक इतना विस्वाश करने लग जाते की वो अपने व्यापार को बुलंदी पर लेजाने के लिए लाख दो लाख चार लाख तक के लिए अपना चेक देने लगते।ये कहते कि आपदो,चार,दस,बीस, लाख अलग अलग लोगों से अपनी गारेंटी पर लो फिर बड़ी रकम हो जायतो कंपनी से इकठ्ठा पच्चीस, पचास,लाख का अग्रीमेंट करालो, अब बेरोजगार ,गरीब,
नेटवर्कर इनकी खूब सूरत प्लान का शिकार हो जाता, और जब इन छोटे लीडरों को जमीन देने की बात आती तो,कभी कहा जाता कम्पनी बारह, तेरह देशों में लांच हो रही है,शाशा सर् बाहर है इंडिया आते ही हर चेक या अग्रीमेंट पर साइन करेंगे इतना ही नही किसी को कोई लीगल डाकुमेंट तो मिला नही,हैं कंपनी का वो एकाउंट जरूर बन्द हो जाता जिसमे वो निवेशकों से बड़ी रकम लेते, जब वो कोई नया अकाउंट  देते और निवेशक को बताया जाता कि उस अकाउंट की लिमिट खत्म हो गई।ऐसा ही एक अकाउंटथा सिंडीकेट बैंक ,पंजाब ज़िकर पुर ब्रांच का एकाउंट नंबर- 81743070001254-जिसमे दो,तीन,साल पहले निवेशकों ने पैसे डिपॉज़िट किये थे लेकिन अब ये बंद हो चुका है। इस अकाउंट की जांच होगी तो असलियत सामने आ जायेगी।निवेशक कंपनी का नाम तक नही जानते,बस वेबसाइट की माला जपते हैं।कभी कभीअपनी जबरदस्त बोल बचन से शाशा गुप्ता अपनी नई स्कीम के तहत लोगों को ,किंतु इमोशनल नौटंकी की भी एक सीमा होती है जो समाप्त हो चुकी है निवेशकों ने शाशा गुप्ता और उनकी लूटपाट कंपनी के सदस्यों के चेहरों से  नकाब हटाने का व उनको सलाखों के पीछे पहुँचाने का मन बना लिया है।भोले भाले निवेशकों को लूटने वाले  एम एल एम के कई फ़्रॉड जैसे सोशल ट्रेड,बाइक बोट,फ्यूचर मेकर ,इत्यादि के मालिक सलाखों के पीछे हैं,और उनका कोई जुगाड़ काम नही नही कर रहा,ये मोदी सरकार है,उसकी व्यवस्था काबिले तारीफ है,इसने कंपनी बनाना जितना आसान बनाया है,उससे अधिक ध्यान लुटेरों पर भी लगाया है,अब आसान नहीं हैकिसी को आर्थिक चोट पहुचाना।

बंद हुई वेबसाइट : पिछले चार साल से चल रही वेबसाइट www.mygulfcoingold.in व
www.gulfcoinexchengar की साइट www.bbcindianews24.com में गुलफ्कोइन गोल्ड के फ्रॉड की सम्पूर्ण दास्तान छपने के बाद अचानक बन्द हो गई,हलाँकि वेबसाइट ओपन रहने से निवेशकों के पास थोड़ी आशा थी,परंतु अब निवेशक उग्र रूप धारण करने को आतुर हैं। अपनी पहुँच का घमंड है जी सी जी के मालिक को:जबतक ऊँट पहाड़ के नीचे नहीं आता  वो अपने आपको सबसे ऊंचा ही समझता है।ऐसा ही कुछ घमंड है फ्रॉड कंपनी गल्फ क्वाइन गोल्ड के मालिक शाशा गुप्ता का, दूसरों के पैसों पर अय्याशी करने वाला यह  शख्स सोचता है कि हिंदुस्तान में हर शख्स बिक जाता है,परंतु उसे पता नही कि हिंदुस्तान में अब ईमानदारी का फैशन आ चुका है।अब कोई भी झूठा इंसान सच के आगे ज्यादा देर नही टिकता ,यदि नहीं हो तो आंख खोलो और देखो एक कंगना रनाउत के सामने पू महाराष्ट्रा
सरकार बौनी  साबित हुई और हंसी का पात्र बन चुकी है। जी सी जी निवेशक कहते हैं शाशा दुबई जाने लायक तो हैं नहीँ और कोविड19 की वजह से कोई अपने पास स्वीकारभी नहीं करेगा इस लिए अब जेल ही शाशा की सही जगह है।अच्छा होगा कि शाशा गुप्ता और उनके गुर्गे,अनुराग कोंनहेर, हीरा गुप्ता, नीरज शर्मा,तरुन छाबरा इत्यादि सब तैयारी करें जेल की।निवेशक तैयार है अब लंबी लड़ाई को।वेबसाइट उनकी है जब मर्जी चालू करें बंद करें,क्वायन भी उनका है अपने पास रक्खे लेकिन पैसा तो निवेशकों का है मेहनत की कमाई है वो उन्हें वापस करना पड़ेगा, ये उनकी मर्जी हैकि कोर्ट के आदेश पर, बैंक ब्याज के साथ देंगे या फिर ? निवेशक देना जानते है तो ,वापस भी लेना जानते है।