Sunday, July 21, 2024
अपराध

भ्रष्टाचार खुद भ्रष्टाचारियो के कृत्य से हुई शर्मसार, मृतकों के खातें से एक लाख 70 हज़ार रुपए ट्रांसफर

Top Banner

अमेठीसरकारे चाहे जितनी ताकत और कानून लगादे मगर भ्रष्टाचारियो के लिए सब कानून ठीक उसी कहावत के हिसाब से है जिसमे बुजूर्गो ने कहा है कि सरकार अगर डाल डाल तो भ्रष्टाचारी पात पात पर चलने की योजना बनाकर मैदान मे उतरने की पूरी तैयारी कर लेते है जिसका जिता जागता प्रत्क्ष प्रमाण आपके सामने है। प्राप्त सूचना के अनुसार उत्तर प्रदेश के अमेठी जिला में इन दिनों अजीबो-गरीब मामले देखने को मिल रहे हैं. कहीं ज़िंदा को मृतक बना दे रहे हैं तो कहीं मृतक लोगों के बैंक खाते से पैसा निकाल रहें है. दरअसल ताजा मामला अमेठी की तिलोई तहसील का है. जहां तिलोई ब्लॉक के शाहमऊ कस्बे में संचालित बडौदा यूपी बैंक में फर्जी दस्तावेजों के सहारे मृतकों के खातें से एक लाख 70 हज़ार रुपए ट्रांसफर कराने का मामला सामने आया है. फिलहाल पूरे मामले कि जानकारी होने के बाद मौजूदगा बडौदा यूपी बैंक के ब्रांच मैनेजर ने पूर्व ब्लॉक प्रमुख के खिलाफ मोहनगंज कोतवाली में एफआईआर दर्ज करायी है. एफ आई आर दर्ज करने के बाद मोहनगंज कोतवाली पुलिस पूरे मामले की जांच पड़ताल में जुट गई है.

पांच मृतक लोगों के अकाउंट्स से ट्रांसफर
जानकारी के मुताबिक बैंक के नियमों को धता बता मेटरिया जनापुर गांव के पूर्व तिलोई ब्लॉक प्रमुख तमीम फातिमा पत्नी ने तत्कालीन कर्मियों की मिली भगत से पांच मृतकों के बैंक खातें में जमा धनराशि कूटरचित दस्ताबेजों के साथ पैसा ट्रांसफर कर लिया है. मामला वर्तमान ब्रांच मैनेजर संजय सक्सेना की संज्ञान में आया तो विभागीय जांच की गई. विभागीय जांच में रामकली के खातें से 54,000 तो रामराजा के खातें से 52,000, भीखना देवी के खाते से 30,000, बृजलाल के खाते से 18,000 और रामपियारे के खातें से 15,000 रुपये  आने की पुष्ठी कि जा चुकी है तथा जांच के दौरान यह भी पता चला कि उक्त लोगो के खाते मे आने वाला पैसा पूर्व ब्लॉक प्रमुख के खातें में ट्रान्सफर होने के बाद पैसा निकाल लेने की पुष्टि हुई.

पूर्व ब्लॉक प्रमुख फातिमा के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर मामले में जांच शुरू
वहीं मोहनगंज कोतवाली इंस्पेक्टर धीरेंद्र कुमार यादव ने बताया कि शाहमऊ कस्बा स्थित बडौदा यूपी बैंक के ब्रान्च मैनेजर की तहरीर पर पूर्व ब्लॉक प्रमुख फातिमा के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है और पूरे मामले की जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी.