Sunday, July 14, 2024
उत्तर प्रदेशप्रतापगढ़

रास्ते के विवाद में पत्रकार पर हुआ हमला थानाध्यक्ष ने मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही का दिलाया भरोसा

Top Banner

फतनपुर थाना क्षेत्र के हरिपाल मऊ गांव निवासी पत्रकार अरविंद यादव पर गांव के ही दबंग आधा दर्जन व्यक्तियों ने रास्ते के विवाद को लेकर हमला कर दिया और वह गंभीर रूप से घायल हो गए मौके पर डायल 112 पुलिस को सूचना दी गई मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले को शांत करा दिया लेकिन इसके बाद भी उपद्रवी नहीं माने घर पर चढ़कर बोला धावा और पत्रकार को मारपीट कर किया घायल जिसकी सूचना थानाध्यक्ष फतनपुर रविंद्र तिवारी ने बताया और पत्रकार के खिलाफ हो रहे उत्पीड़न की बात कही जिस पर गंभीरता से लेते हुए थानाध्यक्ष फतनपुर ने मामले में मुकदमा पंजीकृत कर कार्यवाही किए जाने का भरोसा दिलाया। लेखपाल सुशील तिवारी ने 112 नंबर को बताया कि रास्ता जीएस जमीन में बना है प्रधान राकेश यादव ने भी बताया कि खरंजा ग्राम सभा की जमीन में बना हुआ है इसके बावजूद रास्ते को बाधित किया जा रहा है जहां सरकार भू माफियाओं पर सख्त एक्शन ले रही है वही थाना फतनपुर क्षेत्र हरपाल मऊ में ग्राम सभा की जमीन पर बने खड़ंजा को कब्जा करने में सरकारी जमीन को भी कब्जा कर रहे हैं तहसील से लेकर थाने तक सभी मूकदर्शक बने हुए हैं।

 

प्रतापगढ़

फतनपुर थाना क्षेत्र के हरिपाल मऊ गांव निवासी पत्रकार अरविंद यादव पर गांव के ही दबंग आधा दर्जन व्यक्तियों ने रास्ते के विवाद को लेकर हमला कर दिया और वह गंभीर रूप से घायल हो गए मौके पर डायल 112 पुलिस को सूचना दी गई मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले को शांत करा दिया लेकिन इसके बाद भी उपद्रवी नहीं माने घर पर चढ़कर बोला धावा और पत्रकार को मारपीट कर किया घायल जिसकी सूचना थानाध्यक्ष फतनपुर रविंद्र तिवारी ने बताया और पत्रकार के खिलाफ हो रहे उत्पीड़न की बात कही जिस पर गंभीरता से लेते हुए थानाध्यक्ष फतनपुर ने मामले में मुकदमा पंजीकृत कर कार्यवाही किए जाने का भरोसा दिलाया। लेखपाल सुशील तिवारी ने 112 नंबर को बताया कि रास्ता जीएस जमीन में बना है प्रधान राकेश यादव ने भी बताया कि खरंजा ग्राम सभा की जमीन में बना हुआ है इसके बावजूद रास्ते को बाधित किया जा रहा है जहां सरकार भू माफियाओं पर सख्त एक्शन ले रही है वही थाना फतनपुर क्षेत्र हरपाल मऊ में ग्राम सभा की जमीन पर बने खड़ंजा को कब्जा करने में सरकारी जमीन को भी कब्जा कर रहे हैं तहसील से लेकर थाने तक सभी मूकदर्शक बने हुए हैं।