Saturday, July 13, 2024
उत्तर प्रदेश

लालगंज में जाम का नजारा प्रशासनिक व्यवस्था को रोज चिढ़ा रहा मुंह.

Top Banner

लालगंज, प्रतापगढ़। कोरोना महामारी को लेकर तहसील एवं आउटलाइन कोर्ट की मुख्यालय बाजार लालगंज में अलसुबह से पूर्वान्ह तक जाम का नजारा पुलिस व प्रशासन के लिए मुंह चिढ़ा रहा है। बावजूद इसके लाकडाउन के कर्फ्यू में सुबह की ढील के समय पुलिस की नामौजूदगी व्यवस्था पर सवाल उठाए हुए है। नेशनल हाइवे होने के कारण इस बाजार में लखनऊ वाराणसी के लिए रोज बडे वाहनो की भी सुबह की पाली में कतार लग जाया करती है। वहीं डग्गामारी के वाहन भी चौक मे सवारी ढोने के लिए बेतरतीव नजर आया करते है। नेशनल हाइवे पर फुटपाथ तो छोडिए हाइवे तक पर दुकानो के सामने दोनो तरफ बाइको का भी अंबार लगा रहता है। वहीं फल तथा सब्जी बेचने वाले ठेलिया भी जाम की शक्ल को बदसूरत बनाया किया करते है। यही हाल लालगंज-प्रतापगढ़ रोड के साथ कालाकांकर तथा घुइसरनाथ हाइवे पर भी कमोवेश दिखा करता है। इधर पुलिस जरूर कुछ प्रतिष्ठानों में पहुंचकर फोटोग्राफी का डर पैदा करने का प्रयास कर रही है। इसके बावजूद भीड का रेला कोरोना कर्फ्यू को यहां मजाकिया आइना दिखाये हुए है। जाम की हालत यह है कि लोगों का सुबह चौक से अस्पताल तक पैदल निकल पाना भी मुमकिन नही दिखा करता। तहसील मुख्यालय की बाजार तक में कर्फ्यू का पालन कराने के लिए एसडीएम हों या सीओ अथवा तहसीलदार या फिर कोतवाल किसी को भी जरा सा भी नजर डालने की जरूरत नही महसूस हो रही है। कोरोना के चलते यह भीड़ लालगंज इलाके को कभी भी महामारी की बडी मुसीबत का दंश दे सकता है। दुकानों पर भी इन दिनो बेखौफ बिक्री का नजारा है। मिठाई की दुकान हो या फिर मेडिकल स्टोर किसी भी प्रतिष्ठान पर क्या बिक रहा है इसे भी जांचने परखने की फुर्सत स्थानीय प्रशासन को नही है। मेडिकल स्टोरों पर भी कोरोना महामारी की आड़ में जेनेरिक दवाओं का भी दोगुने दाम पर गोरखधंधा खूब फल फूल रहा है। नगर में ऐसे कई मेडिकल स्टोर है जो होल सेल लाइसेंस के नाम पर धडल्ले से रिटेल मेडिकल स्टोर का मानकविहीन संचालन कर रहे है। स्वास्थ्य महकमा माहवारी के चक्कर में महामारी में लोगों की जान जोखिम मे होने की भी फिक्र नही कर रहा है। मिठाईयों की दुकान पर भी मिलावट का धंधा चरम पर है। वहीं दूध तथा पनीर व खोवा भी अपनी मिलावटी शक्ल में प्रशासनिक नियंत्रण को धता बता रहा है। कहां क्या है यह तो नही कहा जा सकता पर लालगंज की बाजार सचमुच अब रामभरोसे और अल्लाह के करम पर है।