Friday, July 19, 2024
चर्चित समाचार

शासकीय विवेकानंद महाविद्यालय में छात्र छात्राओं को खिलाई कृमि नाशक दवाई!

Top Banner

जिला एमसीबी से तौसीफ रजा की रिपोर्टे !                                                                                                                                                                                                                                                                                  एमसीबी  भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के कार्ययोजना के अनुसार देशभर में व्यापक स्तर पर राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के रूप में मनाया गया।इसके अंतर्गत छोटे बच्चों से लेकर 19 वर्ष तक के आयु के लोगों को टैबलेट का सेवन कराया गया। इस हेतु जिला चिकित्सालय मनेंद्रगढ़ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ.सुरेश तिवारी एवं खंड चिकित्सालय से डॉ.सौमेन्द्र मंडल से प्रशिक्षण प्राप्त करने के उपरांत जिले के शासकीय विवेकानंद महाविद्यालय में रेड क्रॉस एवं रेड रिबन क्लब के तत्वावधान में प्रथम वर्ष एवं द्वितीय वर्ष के छात्र छात्राओं को कृमि नाशक एलबेंडाजोल टैबलेट खिलाया गया। प्राचार्य एवं रेड क्रॉस एवं रेड रिबन क्लब अधिकारी डॉ.सरोजबाला श्याग बिश्नोई के मार्गदर्शन में डॉ.अरुणिमा दत्ता , डॉ.नसीमा बेगम,श्रीमती अनुपा तिग्गा, रेखा सिंह, पुष्पराज सिंह,रामनिवास गुप्ता ,अवनीश गुप्ता ने टैबलेट वितरण में अहम भूमिका निभाई। एवं रेड क्रॉस ,रेड रिबन के स्वयंसेवकों ने महाविद्यालय के प्रत्येक कक्षा में छात्र छात्राओं के बीच कृमि नाशक दवाई एलबेंडाजोल का वितरण किया।प्राचार्य डॉ. बिश्नोई ने छात्र छात्राओं को कृमि से होने वाली समस्या व निदान के संबंध में व्याख्यान देते हुए बताया कि कृमि के संक्रमण से बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।कृमि संक्रमण से बच्चों में कुपोषण हो जाता है।खून की कमी हो जाती है। शरीर में थकावट बनी रहती है और पढ़ाई में मन नहीं लगता है।कृमि नियंत्रण की दवाई से बच्चों के संपूर्ण शारीरिक और मानसिक विकास में मदद मिलती है। डॉ.बिश्नोई ने बताया कि जो छात्र छात्राएं टैबलेट का सेवन नहीं कर पाए हैं उनको स्वास्थ्य विभाग के निर्धारित कार्ययोजना के अनुसार माकअप दिवस 15 फरवरी को टैबलेट का सेवन कराया जायेगा।इस अवसर पर सभी छात्र छात्राओं ने उत्साहपूर्वक भाग लेकर कृमिनाशक दवाई का सेवन किया।