Sunday, July 14, 2024
अपराधउत्तर प्रदेश

ऐसे नौकर शाहो से पूछो नही सवालो को , नौकर है एहसास दिलाओ जूता मारो सालो को

Top Banner
सिद्धार्थनगर में पत्रकार अमीन फारूखी की पिटाई का पूरा सच जो शायद आप नही जानते !

सोशल मीडिया पर आपने सिद्धार्थनगर के एक पत्रकार को पिटते हुए देखा होगा । आज दोपहर के बाद ही सोशल मीडिया पर बड़ी तेजी से वीडियो वायरल हो रहा है । पिटने वाले  पत्रकार का नाम है आमीन फारूखी । अमीन फारूखी भारत समाचार के संवाददाता का इनफॉर्मर है बताया जाता है कि मारपीट की घटना के पीछे मौजूदा SDM त्रिभुवन का हाथ है तमाम पत्रकारों से लेकर विपक्षी पार्टियों के नेता यह वीडियो सोशल मीडिया पर लगाकर सरकार से सवाल पूछ रहे हैं । मैंने वीडियो देखा और पता करने की कोशिश की कि आखिर मामला क्या है siddharth Nagar के एक पत्रकार साथी को फोन लगाया और पूछा कि सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो का सच क्या है ?  सिद्धार्थनगर के उस पत्रकार साथी में मुझे पूरी हकीकत बताई । मैं इस मारपीट की घटना के पीछे का असल वजह सामने रख रहा ।  हूं कहानी लॉक डाउन के शुरुआती दौर से शुरू होती है ।  बताया जा रहा है कि अमीन फारूखी ने लॉकडाउन होने के तुरंत बाद लोकल मीडिया ग्रुप में एक खबर में चलाई ।  खबर  कुछ इस तरह है

एसडीएम साहब के सह पर लॉक डाउन के बावजूद भी एक ढाबा खुल रहा है और वहां लोग  इकट्ठा हो रहे हैं । इस तरह की एक ब्रेकिंग  अमीन फारूखी ने व्हाट्सएप ग्रुप में डाली
इस पर एसडीएम का रिप्लाई आया और उन्होंने लिखा ” ये मीडिया का चेहरा है या स्वार्थी लोगो का चेहरा । लोग परेशान है लोग एक जुट होकर काम कर रहे है । ये इसी में परेशान है ।संकट की घड़ी में लोगो के लिए सोचे अपने चहेतों के लिये नही
इस पर अमीन फारूखी ने ग्रुप में ही एस डी एम साहब को जवाब दे दिया और लिखा ” जब सब परेशान है तो सबको अनुमति मिलनी चाहिए या जो फायदा पहुचाये सिर्फ उसको “
बस बवाल यही से शुरू हुआ था आज किसी कार्यक्रम के अवसर पर एस डी एम साहब विधायक राघवेंद्र सिंह के साथ मौजूद थे । इस कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री राजा जय प्रताप को भी आना था और इस कार्यक्रम का उद्घाटन करना था । पर विधायक जी ने उनके आने के पहले ही कार्यक्रम का उद्घाटन कर दिया । उस दिन व्हाट्स ग्रुप में एक पत्रकार के कड़वे जवाब के बाद एस डी एम साहब आहत थे ऊपर से उनके साथ मुख्यमंत्री जी के करीबी विधायक जी भी साथ थे । यहाँ विधायक जी के सामने फिर उन्होंने ये व्हाटऐप्स ग्रुप वाली बात छेड़ दी । विधायक जी भी सकारात्मक खबरें दिखाने की बात कहने लगे । पर यही अमीन से गलती हो गई उसे नही पता था कि वो आज किस दौर में पत्रकारिता कर रहा है । उसने एसडीएम साहब को जवाब दिया ” तुम अपना काम करो हम अपना काम कर रहे है । एस डीएम साहब और विधायक जी दोनो को उसका ” तुम ” कहना बुरा लग गया .. उसके बाद जो हुआ वो आप सब जानते है ।
बस ये समझ लीजिए कि आजकल के दौर में सवाल उठना और सवाल पूछना दोनो गुनाह हो गया है और जो गुनाह करेगा उसका हश्र अमीन फारूखी जैसा होगा । शायद यही बात समझाने की कोसिस की गई है सिद्धार्थ नगर में ।
कोई निर्भीक कलमकार शायद ऐसे अधिकारियो के उपर यह लाइन लिखे थे
ऐसे नौकर शाहो से पूछो नही सवालो को ,
नौकर है एहसास दिलाओ जूता मारो सालो को
S.D.M Tribhuvan