Sunday, July 14, 2024
अपराधविज्ञापन

GCG निवेशकों का सवाल शाशा गुप्ता से?पहले थाने में पिटोगे या पहले प्रवर्तन निदेशालय में सब कबूलोगे ?

Top Banner

निवेशकों का दर्द समझते हुए और सारे सबूत कंपनी के खिलाफ देखते हुए जब बी बी सी इंडिया न्यूज़24 डॉट कॉम ने कंपनी का कच्चा चिट्ठा सिलसिलेवार खोलना शुरू किया तो गल्फ क्वाइन गोल्ड का मालिक और उसके गुर्गे पहले तो अपनी वेबसाइट बंद कर दियाऔर सोचा मामला हल हो गया परंतु जब बीबीसी इंडिया न्यूज़ 24 डॉट कॉम चार कदम और आगे बढ़ते हुए कंपनी के मालिक की फोटो और उसके कुछ गुर्गों के नाम भी प्रकाशित कर दिया तो कंपनी का मालिक और उसके गुर्गे अपनी औकात में आ गए और पलटवार की धमकी देने लगे उनको शायद पता नहीं ये मोदी सरकार है अब तक की सरकारों में और मोदी सरकार में यही अंतर है कि पहले सत्य परेशान होता था और खो जाता था क्योंकि विजय की नौबत ही नहीं आती थी पहले ताम झाम दिखावा और प्रभुत्व व पैसे की दुनियां थी जिसमें आए दिन सत्य परेशान भी होता था और कभी कभी तो अनहोनी भी होती थी और सत्य पराजित भी हो जाता था। तब की व्यवस्था में लोग बिकने को तैयार बैठे रहते और खरीदने वाले अपने मुताबिक उनकी कीमत लगाया करते थे। पर अब सत्य ना ही परेशान होता है ना पराजित।अब वो दिन आ गया है जब ,संदिग्धों को सरकारी मशीनरी उठा लेती है और स्वयं मुकदमा भी करती है और सजा भी स्वयं ही दिला देती है।अति शीघ्र ही गल्फ क्वाइन गोल्ड के मालिक और उनके गुर्गे इस सच्चाई का अनुभव करेंगे। निवेशकों पर धमकी भारी पड़ेगी।किसी की आर्थिक दुनियां उजाड़ कर अय्याशी करने वालों पाई पाई का हिसाब होगा, निवेशकों को जितना मानसिक तनाव तुमने दिया है उसका हिसाब तुम्हारी जेल यात्रा से ही निवेशक लेना शुरू कर देंगे। नाम ही नहीं एक एक की कारस्तानी ,बैंक अकाउंट, ट्रांजेक्शन्स, फ़ोटो,और भी बहुत कुछ प्रकाशित होने वाला है।और हां केवल प्रकाशित ही नही हो रहा है बल्की सत्य को समर्पित कानून के रच्छकों ने देखना भी शुरू कर दिया है।हां गल्फ क्वाइन गोल्ड का मास्टर माइंड शाशा गुप्ता और उसके गुर्गे, निवेशकों के सामने अक्सर चिल्लाते थे कि मल्टी लेबल मार्केटिंग की दुनियां और क्रिप्टो करेंसी की दुनियां में गल्फ क्वाइन गोल्ड एक इतिहास रचेगी और एक अलग मुकाम बनाएगी। तो एक निवेशक ने बहोत अच्छा लिखा है #हाँ कंपनी अपना इतिहास भी रच चुकी है और अतिशीघ्र ही अपना एक अनोखा मुकाम भी हासिल करेगी ही करेगी। गल्फ क्वाइन गोल्ड पहली कंपनी है जिसने कभी कोई वादा पूरा नही किया केवल लोगों के से पैसा लिया और  कभी भी वापस नही किया और अपनी
वेबसाइट के बल पर तीन चार साल लूटा ।निवेशकों के पैसों का केवल और केवल अय्याशी किया हिंदुस्तान में भी और हिंदुस्तान के बाहर भी।ये तो है कंपनी का इतिहास और अब बताते है कंपनी का मुकाम।एम एल एम (मल्टी लेबल मार्केटिंग)और क्रिप्टो करेंसी के दुनियां की, माई गल्फ क्वायन गोल्ड शायद पहली कम्पनी होगी जिसका मालिक और उसके गुर्गे गिरफ्तार पहले होंगे
और एफ0आई0आर0 बाद में होगा बी बी सी इंडिया न्यूज ट्वेंटी फोर डाट कॉम के पास कंपनी और उनके गुर्गों के खिलाफ सारे सबूत और जनबल है इतना ही नहीं कंपनी के निवेशक bbcindianews24.com और हकीकत एक्सप्रेस की टीम का एक हिस्सा भी बन चुके हैं।
शाशा गुप्ता लुटेरा होते हुए भी अहंकार में इतना डूबा है कि उसको लगता है कि पूरी मशीनरी बिकाऊ है?तो चलो फटाफट प्रवर्तन निदेशालय में कोई जुगाड़ हो तो वहाँ लगाना शुरू कर दो, सुना है तुम्हारे पास खरीदने का बहोत तरीका है । पैसा,,,,होटल,,,,ल,,,,शायद  कुछ काम आ जाय या शायद इसी बहाने तुम्हे पता चल जाय कि हिंदुस्तान और उसका कानून कितना बदल चुका है।निवेशकों के सपनों को धूल धूसरित कर मजाक उड़ाने  वालों दम है तो एक नोटिस भेज कर देखो वो होगा जो तुम लोगों ने सपने में भी नही सोचा होगा।तैयार हो जाओ बारी बारी से अपनी तस्वीर के साथ अपनी काली करतूत का चिट्ठा पढ़ने और देखने को शुरुआत यहीं से करता हूँ। नाम-अनुराग कोंनहेर,पुत्र-विलास कोंनहेर ,उम्र-35 वर्ष,पता-कोंनहेर गार्डन, नेहरू चौक,विलासपुर।पिन-495001 , इसका परिचय शाशा का गुर्गा। बैंक-यस बैंक,a/c- 004763400000222- IFSC-YESB0000047- (25-07-2017 के बाद से इस अकाउंट की जांच होगी तो टर्न ओवर से सब पता चल जाएगा,वैसे ये एक शातिर आदमी है,इसके और भी अकाउंट है ज्यादातर ये अपनी  पत्नी का अकाउंट ही उपयोग करता है,सम्पूर्ण डिटेल उपलब्ध है) ।।