Friday, July 19, 2024
अपराध

Insta अकाउंट के जरिये लड़कियो को ब्लैकमेल करने वाला ब्लैकमेलर गिरफ्तार

Top Banner

40 लड़कियों की शिकायत के बाद अरेस्ट

एडिशनल एसपी जयवीर सिंह भदौरिया ने बताया कि आरोपी अभिषेक हिलोरोया लड़कियों की तस्वीरों को एडिट करता था और उन्हें ब्लैकमेल करने के लिए फर्जी इंस्टाग्राम आईडी बनाता था। पुलिस साइबर सेल के जरिए उसे पकड़ने में कामयाब रही. आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है और उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी. साइबर सेल प्रभारी पवन यादव व मुख्य आरक्षी शिव प्रताप सिंह के प्रयासों से आरोपी की गिरफ्तारी संभव हो सकी.

मध्य प्रदेश की देवास पुलिस ने एक ऐसे शातिर अपराधी को पकड़ा है जो इंस्टाग्राम से फोटो चुराता था और उनसे छेड़छाड़ करता था.मध्य प्रदेश की देवास पुलिस ने एक ऐसे शातिर अपराधी को पकड़ा है जो इंस्टाग्राम से फोटो चुराता था और उनसे छेड़छाड़ करता था. इसके बाद, वह इन तस्वीरों को एडिट करता था और उनका इस्तेमाल युवा लड़कियों को ब्लैकमेल करने जैसी निंदनीय गतिविधियों में शामिल करने के लिए करता था. ऐसी घटनाओं को लेकर करीब 40 लड़कियों और महिलाओं ने थाने में शिकायत दर्ज कराई थी. पुलिस को नापाखेड़ी, बरोठा क्षेत्र में संदिग्ध को गिरफ्तार करने में सफलता मिली.

पीड़ितों ने स्थानीय विधायक गायत्री राज पवार से भी आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की थी. जैसे ही 18 वर्षीय संदिग्ध अभिषेक हिलोरोया की गिरफ्तारी की खबर आई, विधायक गायत्री राज पवार ने कोतवाली पुलिस स्टेशन का दौरा किया और अपराधी को पकड़ने के लिए पुलिस की सराहना की.

बीजेपी विधायक ने थाने में मौजूद पीड़ित युवतियों से भी मुलाकात की. इस बातचीत के दौरान, गायत्री राज पवार ने कहा कि आरोपी युवा लड़कियों को परेशान और ब्लैकमेल कर रहा था, यहां तक कि उनकी तस्वीरें प्राप्त करने के लिए उनके रिश्तेदारों की आईडी भी हैक कर रहा था. उनके फेस लेकर दूसरी नग्न फोटो पर लगाकर अपने 25 से ज्यादा अकांउट पर शेयर कर देता था और फिर इन बच्चियों को परेशान करता था. गायत्री राज पवार ने त्वरित कार्रवाई के लिए पुलिस बल का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि देवास में इस तरह के अपराध बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे। उन्होंने आश्वासन दिया कि आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी और उनके प्रयासों के लिए पुलिस टीम की सराहना की.

बता दें कि शातिर अभिषेक हिलोरोया के पास 25 से ज्यादा आईडी थीं, जिनमें से कुछ पर युवतियों की फर्जी पहचान थी। वह सोशल मीडिया पर सक्रिय युवा महिलाओं के मूल खातों से तस्वीरें निकालता था, उन्हें 
एडिट करता था और फिर फर्जी आईडी का उपयोग करके साझा करता था। वह ब्लैकमेल करने के लिए बारकोड भी भेजता था, जिससे इन महिलाओं को गंभीर मानसिक परेशानी होती थी। कुछ तो पीड़ा के कारण आत्महत्या के बारे में भी सोच रहे थे। हालांकि विधायक गायत्री राज पवार और पुलिस की सतर्कता की बदौलत मामले को गंभीरता से लिया गया और आरोपी को पकड़ लिया गया.

इसके अलावा आरोपी ने लोगों का ध्यान भटकाने के लिए मुजाहिद हुसैन के नाम से आईडी भी बनाई थी. पुलिस ने शातिर संदिग्ध को पकड़ने के लिए फेसबुक से डेटा प्राप्त किया, लेकिन सर्वर यूएसए में स्थित होने के कारण इसमें कुछ समय लगा। तकनीकी सहायता से, आईपी पते का पता लगाया गया और अंततः, पुलिस ने सफलतापूर्वक अभिषेक के मोबाइल नंबर की पहचान की और उसे पकड़ लिया। फिलहाल पुलिस आरोपियों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत भी कार्रवाई कर रही है.

शाम को जिला कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट ऋषव गुप्ता ने अभिषेक हिलोरोया को राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) के तहत तीन माह के लिए निरुद्ध कर केंद्रीय जेल भैरूगढ़ में रखने के आदेश जारी किए।