Sunday, July 21, 2024
राजनीति

परिवर्तन यात्रा से पहले कांग्रेस के खिलाफ कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन

Top Banner

भाजपा की परिवर्तन संकल्प यात्रा 12 सितंबर को सायं 7 बजे से अजमेर के ब्यावर सीमा में प्रवेश कर किया। इससे पहले 12 सितंबर को को दोपहर 12 बजे पानी, बिजली और मकानों के मकानों के पट्टों की मांग को लेकर कांग्रेस सरकार के खिलाफ कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन हुआ। अजमेर की शहरी सीमा से लगे गांव के ग्रामीणों और पिछड़ी बस्तियों के सैकड़ों लोगों को एकत्रित करने वाले भाजपा के बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ के संभागीय संयोजक सुभाष काबरा, पार्षद कुंदन वैष्णव और सरपंच लाल सिंह रावत ने आरोप लगाया कि कांग्रेस सरकार ने गरीबों को मकान और भूमि के पट्टे देने की घोषणा की है। लेकिन अजमेर विकास प्राधिकरण द्वारा पट्टे नहीं दिए जा रहे है। सरकार की यह घोषणा थोथी साबित हुई है। पट्टे नहीं मिलने से पेराफेरी क्षेत्र के लोगों को भारी परेशानी हो रही है। आरोप लगाया गया कि शहरी क्षेत्र में चार दिन में एक बार पेयजल की सप्लाई हो रही है। गर्मी के दिनों में लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसी प्रकार बिजली के बिल भी ज्यादा आ रहे हैं। इस संबंध में जब शिकायत की जाती है तो तो निजी कंपनी टाटा पावर द्वारा कोई सुनवाई नहीं होती। कंपनी के अधिकारियों का कहना रहता है कि राज्य सरकार ने जो दिशा निर्देश दिए हैं उसी के अनुरूप उपभोक्ताओं को बिल भेजे जा रहे हैं। तीनों नेताओं ने आरोप लगाया कि कांग्रेस सरकार की जनविरोधी नीतियों की वजह से लोगों को परेशानी हो रही है। लोगों की आवास सरकार तक पहुंचाने के लिए आज धरना प्रदर्शन किया गया है। तय कार्यक्रम के अनुसार ग्रामीण और शहरी क्षेत्र के लोग सुबह 11 बजे जवाहर रंगमंच पर एकत्रित हुए और फिर कलेक्ट्रेट पर पहुंचे। यहां सभी लोगों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। बाद में जिला कलेक्टर को एक ज्ञापन भी दिया गया।