Friday, July 19, 2024
गजल

दुख ज़िन्दगी के ख़ुद ही बढ़ाने में हैं लगे

Top Banner

हीरालाल यादव हीरा

मुमकिन नहीं जो उसको ही पाने में हैं लगे
दुख ज़िन्दगी के ख़ुद ही बढ़ाने में हैं लगे

इंसानियत की साख गिराने में हैं लगे
दुनिया में पाप लोग कमाने में हैं लगे

हँस हँस के सारे नाज़ उठाने में हैं लगे
एहसान ज़िन्दगी का चुकाने में हैं लगे

इंसान भी कहाने के क़ाबिल नहीं है जो
सब देवता उसे ही बनाने में हैं लगे

दामन को अपने पाक दिखाने को सब यहाँ
इलज़ाम दूसरों पे लगाने में हैं लगे

इक रोज़ ये डसेंगे ये सच जान कर भी क्यों
साँपों को लोग दूध पिलाने में हैं लगे

नादाँ हैं रख के चाँद सितारों की आरज़ू
चैन ओ सुकून लोग गँवाने में हैं लगे

डूबे हुए हैं जिसके ख़यालों में रात-दिन
कैसे कहें कि उसको भुलाने में हैं लगे

किरदार पर है उनकी भी कालिख पुती हुई
दाग़ी जो दूसरों को बताने में हैं लगे