Sunday, July 21, 2024
अपराधउत्तर प्रदेशचर्चित समाचारलखनऊ

जीजा ने दृश्यम 2 फिल्म देखकर रची थी साली की हत्या की साजिश

Top Banner

लखनऊ

बीते 6 नवंबर को पारा थाना क्षेत्र के फतेहगंज से गुमशुदा महिला की गला रेतकर हत्या का प्रयास किया गया था। मामले में पुलिस ने नौ दिन बाद महिला के बहनोई समेत एक महिला और दो अन्य को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों तक पहुंचने के लिए पुलिस ने 9 टीमें लगाईं, 49 किलोमीटर तक जांच का दायरा रहा और इस दौरान 1900 कैमरों की मदद ली गई। पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने खुलासा किया कि उन लोगों ने फिल्म दृश्यम-2 देखकर महिला की हत्या की साजिश रची थी। गौरतलब है कि 6 नवंबर को फतेहगंज निवासी नीलम सैनी (30) की पारा थाने में परिजनों ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। अगली सुबह तकरीबन 7 बजे वह मोहनलालगंज के कल्ली पूरब गांव में लहुलूहान हालत में मिली। महिला के बयानों के आधार पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज करते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए नौ टीमें गठित की थीं। डीसीपी पश्चिम राहुल राज ने बताया कि घटना वाले दिन पीड़ित को अपने संग ले जाने वाली महिला और इनोवा की तलाश शुरू की गई। इस दौरान पुलिस टीम ने घटनास्थल के अलावा तमाम क्षेत्रों की सीसीटीवी फुटेज खंगालनी शुरू कर दी।1900 कैमरों की मदद

डीसीपी ने बताया कि कुल 1900 सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली गई। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपित साजिश के तहत इनोवा को इधर-उधर घुमाते रहे ताकि पुलिस को सुराग न मिल सके। वहीं, इनोवा की फुटेज सामने आने पर पुलिस टीमें भी संदिग्ध कार की तलाश में दिनभर भटकती रहीं। हालांकि, एक मात्र सुराग ने पुलिस को उस गाड़ी तक पहुंचा दिया। जिसके बाद पुलिस के सामने संतोष सैनी का नाम आया। फौरन पुलिस आरोपियों को हिरासत में लेते हुए पूछताछ की तो उसने अपना गुनाह कुबूल करते हुए घटना में शामिल अन्य लोगों का भी नाम बताया। आरोपी ने बताया कि उसके ससुर की दो बेटियां हैं। एक उसकी पत्नी तो दूसरी उसकी साली है। ससुर ने दोनों को जमीन के कई हिस्से और मकान दिए थे, लेकिन उसे कुछ भी नहीं दिया था। उसने बताया कि उन्नाव जनपद की जमीन को ससुर ने किसी को भी नहीं दिया था। उसे डर था कि कहीं ससुर यह संपत्ति भी साली नीलम को न दे दे।इसलिए रची साजिश आरोपी ने बताया कि पिछले कई साल से नीलम पति से अलग होकर मायके में रहने लगी थी। नीलम अपने पति से अलगाव होने का मुख्य कारण उसे बताती थी। जिस वजह से उसका ससुराल आना-जाना बंद हो गया था। आरोपी ने ससुर और साली को सबक सिखाने और संपत्ति हड़पने की लिए नीलम को रास्ते से हटाने की साजिश रची, ताकि शेष संपत्ति पर उसे मालिकाना हक मिल सके। उसने बताया कि फिल्म दृश्यम-2 देखकर उसने नीलम की हत्या करने की साजिश रची। आरोपी ने दोस्त मुन्नू और एक महिला को इस वारदात में शामिल किया। इसके बाद महिला ने नीलम से दोस्ती की। इसके साथ ही आरोपी ने एक इनोवा का इंतजाम किया। जिसमें वह साली की हत्या कर आराम से बैठ सके।ऐसे दिया था वारदात को अंजामसाजिश के तहत असमा ने नीलम के जूस में बेहोशी की दवा दे दी। थोड़ी देर बाद ही वह बेहोश हो गई। इसके बाद वह गाड़ी लेकर तिकुनिया पहुंची, जहां पर आरोपी असमा के संग नीलम का इंतजार कर रहा था। जिसके बाद आरोपी बारहबिरवा से होते हुए तेलीबाग पहुंचे। फिर मोहनलालगंज के कल्ली पूरब गांव पर सुनसान जगह गाड़ी रोकी। नीलम की गला दबाकर हत्या करने के प्रयास के बाद झाड़ियां के पीछे संतोष ने ब्लेड से उसका गला काट दिया।